MyPmKisan.in

महाशिवरात्रि विशेष पूजा-अर्चना विधि

MyPmKisan.in

फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि एक मार्च को तड़के से शुरू हो जाएगा. इसी दिन व्रत रखना और पूजा-अर्चना करने से सभी मनोकमानएं पूरी होती हैं.

MyPmKisan.in

धर्माचार्य पण्डित पवन त्रिपाठी ने बताया कि भगवान शिव को चार चीजें हमेशा प्रिय हैं मदार की माला, धतूरा, बिल्वपत्र और भांग.

MyPmKisan.in

स्नान-ध्यान करने के पश्चात अपना नाम और गोत्र का नाम लेते हुए महीने, दिन का नाम, तिथि का नाम लेकर शिव का पूजन करना चाहिए.

MyPmKisan.in

पूजन में गणेश जी की पूजा पहले की जाती है. इसमे दूर्वा और लड्डू का भोग लगाकर पूजन करना चाहिए. इसके बाद भगवान शंकर की पूजा के समय शुद्ध आसन पर बैठकर पहले आचमन करें.

MyPmKisan.in

पूजन-सामग्री को यथास्थान रखकर रक्षादीप प्रज्ज्वलित कर लें. यदि आप रूद्राभिषेक, लघुरूद्र, महारूद्र आदि विशेष अनुष्ठान कर रहे हैं

MyPmKisan.in

नन्दीश्वर, वीरभद्र, कार्तिकेय एवं सर्प का संक्षिप्त पूजन करना चाहिए. इसके पश्चात हाथ में बिल्वपत्र एवं अक्षत लेकर भगवान शिव का ध्यान करें.

MyPmKisan.in

इसके बाद भगवान का एक साथ पंचामृत स्नान कराएं, फिर सुगंध-स्नान कराएं फिर शुद्ध स्नान कराएं.

MyPmKisan.in

इसके बाद भगवान शिव को वस्त्र चढ़ाएं. वस्त्र के बाद जनेऊ चढाएं. फिर सुगंध, इत्र, अक्षत, पुष्पमाला, बिल्वपत्र चढाएं. अब भगवान शिव को विविध प्रकार के फल चढ़ाएं.

MyPmKisan.in

इसके पश्चात धूप-दीप जलाएं. हाथ धोकर भोलेनाथ को नैवेद्य लगाएं. नैवेद्य के बाद फल, पान-नारियल, दक्षिणा चढ़ाकर आरती करें. More